नए अध्ययन में, वैज्ञानिकों ने पाया कि मस्तिष्क कैसे निर्णय लेता है


मस्तिष्क का वह क्षेत्र जहां हमारी पसंद के बारे में महत्वपूर्ण निर्णय किए जाते हैं, प्रीफ्रंटल कॉर्टेक्स कहलाता है। वैज्ञानिक भाषा में दिमाग के उस हिस्से को RSC कहते हैं, जिसका मतलब रेट्रोस्प्लेनियल कोर्टेक्स होता है।

कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं द्वारा किए गए एक अध्ययन के अनुसार, यह मस्तिष्क का वह हिस्सा है जिसका उपयोग हम अपनी पसंद के विकल्पों को चुनने के लिए करते हैं। इसका मतलब है कि हमें क्या पसंद है या क्या नहीं, यह इसी से तय होता है। उदाहरण के लिए, अगर आपको आज रात के खाने के लिए बाहर जाना है, तो रेस्तरां का फैसला करना भी इन विकल्पों का एक हिस्सा हो सकता है।

इतना ही नहीं, हम आरएससी को इस जानकारी के साथ भी अपडेट करते हैं कि हमें रेस्तरां में सूप या पास्ता कैसे परोसा गया और हमने इसका कितना आनंद लिया। इस अध्ययन के निष्कर्ष न्यूरॉन जर्नल में प्रकाशित किए गए हैं।

शोध शोधकर्ता रयोमा हटोरी और प्रोफेसर ताकाकी कोमियामा की देखरेख में किया गया। यह इस बारे में विवरण देता है कि गतिशील जानकारी को कैसे संसाधित किया जाता है।

रयोमा हटोरी के अनुसार, चूहों पर किए गए अध्ययन में उन्होंने पाया कि उनके मस्तिष्क का आरएससी पसंद की जानकारी के स्थायी शब्दकोश के रूप में कार्य करता है। आरहूस यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने एक नए अध्ययन में पाया कि संतुलित आहार से मस्तिष्क में रक्तस्राव या थक्का जमने का खतरा कम होता है।

यूएस पब्लिक हेल्थ डिपार्टमेंट द्वारा किए गए इस अध्ययन के निष्कर्ष स्ट्रोक जर्नल में प्रकाशित हुए हैं। ऐसा कहा गया है कि शाकाहारी खाद्य पदार्थों का अधिक सेवन और मांसाहारी खाद्य पदार्थों का कम सेवन स्वास्थ्य के लिए अच्छा होता है।

यह अध्ययन कुछ लोगों के लिए मददगार साबित हो सकता है। जहां तक ​​संतुलित आहार की बात है तो यह स्वास्थ्य संबंधी कई समस्याओं का समाधान है।

सभी नवीनतम समाचार, ब्रेकिंग न्यूज और कोरोनावायरस समाचार यहां पढ़ें।

.



Leave a Comment