जैसा कि भारत तीसरी कोविड लहर से लड़ता है, आयुष मंत्रालय दिशानिर्देश, आयुर्वेदिक उपाय जारी करता है


केंद्रीय आयुष मंत्रालय ने हाल ही में नागरिकों के बेहतर स्वास्थ्य के लिए दिशा-निर्देश जारी किए हैं। दिशा-निर्देश जारी करते हुए मंत्रालय ने कहा कि यह सुनिश्चित करने के प्रयास किए जा रहे हैं कि लोग स्वस्थ रहें और संक्रमण से खुद को बचाएं।

आयुष मंत्रालय ने प्रत्येक नागरिक के लिए व्यक्तिगत स्वास्थ्य के विभिन्न पहलुओं पर बहुत जोर दिया है।

यहां स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी दिशा-निर्देश दिए गए हैं।

सामान्य उपाय –

दिन भर में कई बार गर्म पानी पिएं।

दिन में कम से कम 30 मिनट योग, प्राणायाम और ध्यान करें।

हल्दी, जीरा और धनिया जैसे मसाले जरूर खाएं।

खाना पकाने में लहसुन का प्रयोग अवश्य करें।

रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के आयुर्वेदिक उपाय-

10 ग्राम च्यवनप्राश सुबह के समय लें। मधुमेह के रोगियों को शुगर फ्री च्यवनप्राश का सेवन करना चाहिए।

तुलसी और दालचीनी से बनी हर्बल चाय/काढ़े का सेवन अवश्य करें।

दालचीनी, काली मिर्च, शुंथि (सोंठ), और किशमिश (किशमिश) – का सेवन दिन में एक या दो बार करना चाहिए।

गुड़ (प्राकृतिक चीनी) और नींबू के रस का सेवन करें।

दिन में एक बार हल्दी गर्म दूध का सेवन करें।

सरल आयुर्वेदिक प्रक्रियाएं:

तिल का तेल/नारियल का तेल या घी सुबह-शाम नथुने में लगाएं।

ऑयल पुलिंग थेरेपी – 1 चम्मच तिल या नारियल के तेल को 2 से 3 मिनट के लिए अपने मुंह में घुमाएं। यह दिन में एक या दो बार किया जा सकता है।

सूखी खांसी और गले में खराश से पीड़ित हैं तो ताजी पुदीने की पत्तियों या अजवाइन और अदरक के साथ भाप लें। 2-3 कलियों का चूर्ण गुड़ या शहद में मिलाकर लें।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि ये सभी उपाय कोविड-19 उपयुक्त व्यवहार के अंतर्गत आते हैं और इन्हें कोविड-19 से बचाव के विकल्प के रूप में नहीं लिया जाना चाहिए।

इस बीच, अधिकारियों ने नागरिकों से सभी आवश्यक दिशानिर्देशों का पालन करने का आग्रह किया है, जिसमें मास्क का उपयोग, उचित हाथ की स्वच्छता, शारीरिक और सामाजिक दूरी का पालन करना, कोविड -19 टीकाकरण, स्वस्थ आहार, बेहतर प्रतिरक्षा और अन्य स्वास्थ्य देखभाल शामिल हैं।

सभी नवीनतम समाचार, ब्रेकिंग न्यूज और कोरोनावायरस समाचार यहां पढ़ें।

.